• Story

    Hindi Kahani चिड़िया ने राजा को सिखाई ज्ञान की बातें

    चिड़िया ने राजा को सिखाई ज्ञान की बातें एक राजा के विशाल महल में एक सुंदर वाटिका थी, जिसमें अंगूरों की एक बेल लगी थी। वहां रोज एक चिड़िया आती और मीठे अंगूर चुन-चुनकर खा जाती और अधपके और खट्टे अंगूरों को नीचे गिरा देती। माली ने चिड़िया को पकड़ने की बहुत कोशिश की पर वह हाथ नहीं आई। हार कर एक दिन माली ने राजा को यह बात बताई। यह सुनकर राजा को आश्चर्य हुआ। उसने चिड़िया को सबक सिखाने की ठान ली और वाटिका में छिपकर बैठ गया। जब चिड़िया अंगूर खाने आई तो राजा ने तेजी दिखाते हुए उसे पकड़ लिया। जब राजा चिड़िया को मारने लगा,…

  • Commercial Banks
    Blogs,  Education Blogs

    Commercial Banks : Definitions, Primary & Secondary Functions व्यापारिक बैंकों के कार्य

    Commercial Banks : Definitions, Primary & Secondary Functions व्यापारिक बैंकों के कार्य बैंक की प्रकृति और इसका महत्त्व इसके द्वारा किये जाने वाले कार्यों की विविधता और आकार से जाना जा सकता है। “बैंक” शब्द की परिभाषा देना बहुत कठिन है क्योंकि सामाजिक व आर्थिक स्थितियों, सरकारी नीतियों और प्राथमिकताओं आदि में होने वाले परिवर्तनों के कारण इस संकल्पना में भी तेज़ी से परिवर्तन हो रहा है। फिर भी, कुछ परिभाषाएं बैंकिंग की प्रकृति को  समझने में सहायक होंगी। हर्बर एल. हार्ट के अनुसार, “बैंकर वह है जो व्यापार की सामान्य प्रक्रिया में उन चैकों का भुगतान करता  है जो उस पर व्यक्तियों व्यक्तियों द्वारा लिखे गए है, जिससे या…

  • फूटा घड़ा Inspirational Hindi Story
    Story

    Hindi Story फूटा घड़ा – एक प्रेरणादायक कहानी

    फूटा घड़ा – एक प्रेरणादायक कहानी एक गांव में एक किसान रहता था, उसके पास दो घड़े थे। उन दोनों घड़ों को लेकर वह रोज़ सुबह अपने घर से बहुत दूर बहती एक नदी से पानी लेने जाया करता था। पानी भरने के बाद वह उन घड़ों को एक बांस की लकड़ी के दोनो सिरों पर बांध लेता और उसे अपने कंधे पर लादकर वापस घर तक लाता था। रोज़ सुबह उसकी यही दिनचर्या थी। दोनों घड़ों में से एक घड़ा सही-सलामत था, लेकिन दूसरा घड़ा एक जगह से फूटा हुआ था। इसलिए जब भी किसान नदी से पानी भरकर घर तक पहुँचता, एक घड़ा पानी से लबालब भरा रहता…

  • Moortikar
    Story

    मूर्तिकार का अहंकार – मनुष्य की सबसे बड़ी बुराई है अहंकार

    मूर्तिकार का अहंकार एक गाँव में एक विदुर नाम का मूर्तिकार (मूर्ति बनाने वाला ) रहता था| वह ऐसी मूर्तियाँ बनता था, जिन्हें देख कर हर किसी को मूर्तियों के जीवित होने का एहसास होता था| अपनी इस कला के कारण आस -पास के सभी गाँव में और विदेशों में भी वह बहुत प्रसिद्द था| उसकी इस अद्भूत कलाकारी के लिए उसे कई ईनाम भी मिले थे| लेकिन जैसे-जैसे उसे नाम और शौहरत मिलने लगे, वह घमंडी होता गया| एक दिन उसके यहाँ सूर्यसेन महाराज की ओर से  शक्ति बाबा आये, महाराज की आज्ञा के अनुसार उसे  शक्ति बाबा की मूर्ति बनानी थी| शक्ति बाबा हाथ की रेखाएं देख के…

  • बैंकिंग का आर्थिक महत्त्व (Economics Significance of Banking)
    Blogs,  Education Blogs

    बैंकिंग का आर्थिक महत्त्व (Economics Importance of Banking)

    बैंकिंग का आर्थिक महत्त्व (Economics Importance of Banking) किसी देश के आर्थिक विकास में आधुनिक बैंक की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। अतीत में बैंकर केवल मुद्रा का लेन-देन किया करते थे। लेकिन आज ये आर्थिक संवृद्धि के नेता की भूमिका अदा करते है। बैंकर सभी प्रकार के ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करते है. बैंक को न केवल अपनी अधिशेष आय की सुरक्षा की जोखिम और चिंता से मुक्त करते हैं बल्कि बचत और निवेश करने की सुविधाएँ भी प्रदान करते हैं, लोगों में बैंकिंग आदतों को बढ़ावा देते हैं, समाज के धन के अलाभकारी उपयोग को निरुत्साहित करते है और समाज की निष्क्रिय पूँजी को कम करते हैं। बैंक इन…

  • kachua aur khargosh ek ansuni kahani
    Story

    Hindi Moral Story Kachua aur Khargosh (जो आपने नहीं सुनी होगी )

    Hindi Moral Story Kachua aur Khargosh दोस्तों, आपने कछुआ और खरगोश की कहानी तो ज़रूर सुनी होगी, लेकिन शायद पूरी नहीं। चलिए आज हम आपको पूरी कहानी सुनाते है। ये कहानी सिर्फ कछुए और खरगोश की नहीं है, अगर हम इसकी गहराई को समझे तो ये जीने की दिशा को बदल सकती है। एक बार एक खरगोश को अपनी चाल ढाल पर बहुत घमंड हो जाता है, और वो पूरे जंगल में सबको कहता है कि मुझे रेस में कोई नहीं हरा सकता। वह सबको रेस लगाने के लिए Challange करता है और एक कछुआ उसकी इस चुनौती को स्वीकार कर लेता है। रेस शुरू हो जाती है खरगोश तेज़ी…

  • Monetary Policy of the RBI
    Blogs,  Education Blogs

    Reserve Bank of India Monetary Policy Appraisal

    भारतीय रिज़र्व बैंक की मुद्रा नीति का मूल्यांकन Reserve Bank of India Monetary Policy Appraisal   विकसित देशों में मुद्रा नीतिक का उद्देश्य कीमत स्थिरता के साथ पूर्ण रोज़गार होता है। लेकिन विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में इसका उद्देश्य रोज़गार के ऊँचे स्तर व कीमत स्थिरता के साथ संवृद्धि को इष्टतम करना होता है। भारत जैसे देश में जहाँ हर समय संवृद्धि की दर को तेज़ करने का प्रयास किया जाता है, उद्योग, कृषि और व्यापार संबंधी साख की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए साख और मुद्रा पूर्ति  का निरंतर विस्तार करना पड़ता है। इसलिए भारतीय रिज़र्व बैंक साख को सीमित करने की नीति नहीं अपना सकता। इन स्तिथियों में रिज़र्व…

  • List of Important National & International Day
    Blogs,  National And International Days

    National & International Days List महत्त्वपूर्ण राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दिवस की सूची

    Important National & International Days List महत्त्वपूर्ण राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दिवस की सूची विश्व के इतिहास में घटित कई ऐसी घटनाएं है जिन्हें हम विश्व भर में यादगार के रूप में मानते है। जिनमें से कुछ राष्ट्रीय स्तर और कुछ अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाये जाते है। इस पोस्ट में हम उन्हीं महत्त्वपूर्ण दिवस और तिथियों की सूची के बारे में जानेंगे। यह उन लोगों के लिए और भी अधिक महत्त्वपूर्ण है जो किसी सरकारी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे है। हम उम्मीद करते है कि यह पोस्ट हमारे पाठकों के सामान्य ज्ञान को बढ़ाने में काफी मददगार सिद्ध होगी। तो आइये पढ़ते है देश और विदेश में साल भर…

  • Central Bank and Its Functions
    Blogs,  Education Blogs

    Central Bank and its Functions केंद्रीय बैंक क्या है, और इसके कार्य क्या है?

    केंद्रीय बैंक क्या है, और इसके कार्य क्या है? Central Bank and its Functions केंद्रीय बैंक किसी देश की वह उच्चतम वित्तीय संस्था है जिसका मुख्य कार्य मौद्रिक और बैंकिंग सरंचना को नियमित, समन्वित व संघटित करना तथा उसका पथ-प्रदर्शन करना है जिससे कि राष्ट्रीय और सार्वजनिक कल्याण के निश्चित लक्ष्यों को पूरा किया जा सके। बैंकिंग प्रणाली तभी कुशलता पूर्वक कार्य कर सकती है जब इसकी क्रियाओं को निर्देशित और समन्वित करने के लिए इसके ऊपर एक संस्था हो. ऐसा न होने पर बैंकिंग प्रणाली ठीक से कार्य नहीं कर सकेगी। आजकल शायद ही ऐसा कोई देश हो जिसका अपना केंद्रीय बैंक न हो। केंद्रीय बैंक के कार्य (Functions…

  • Famous Authour Quotes,  Quotes

    Mother Teresa Inspirational Quotes in Hindi

    Mother Teresa Quotes in Hindi मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त, 1910 को स्कॉप्जे में हुआ। उनके पिता निकोला बोयाजू साधारण व्यवसायी थे। मदर टेरेसा का असली नाम ‘अगनेस गोंझा बोयाजिजू’ था। जब वह केवल 8 साल की तब उनके पिता का देहांत हो गया। उसके बाद उनकी सारी जिम्मेदारी उनकी माता द्राना बोयाजू के ऊपर आ गयी। पढाई के साथ-साथ, उन्हें गाना बेहद पसंद था। वह और उनकी बहन पास के गिरजाघर में मुख्य गायिका थीं। ऐसा माना जाता था कि जब वह केवल बारह साल की थी तभी उन्हें ये अनुभव हो चुका था कि वह अपना सारा जीवन मानव सेवा में अर्पित करेंगी। मदर टेरेसा ऐसे महान…