Maa ka sachha Pyar
Story

माँ का सच्चा प्यार

माँ का सच्चा प्यार

“आज हम एक ऐसी कहानी आपसे शेयर करने जा रहे हैं जिसे पढ़कर आपकी आँखें नम हो जाएगी।”

एक व्यक्ति अपने जीवन में काफी सफल हो चुका था,,, और एक दिन अपनी माँ के पास गया
और बोला – ‘माँ आज जो कुछ भी मेरे पास है,, मैं सफलता के जिन बुलंदियों को पा चुका हूँ…
वो सब आपके प्यार और ममता की ही देन है,,,
इसलिए माँ आपने जो प्यार दिया हैं,,, मैं उसका ऋण चुकता करना चाहता हूँ।

Maa ka sachha pyar

यह सुनकर माँ आश्चर्यचकित हो गयी और बोली – ‘नहीं बेटा मुझे अपनी ममता और प्यार के
बदले कुछ भी नहीं चाहिए ये तो मेरा फ़र्ज़ था,,,जो मैंने अपनी संतान के लिए किया।’

लेकिन वह व्यक्ति बार बार-बार ज़िद्द करने लगा,,,
नहीं, माँ मैं आपके प्यार और ममता के बदले कुछ देना चाहता हूँ।
माँ आप मांगों तो सही,,,, बार बार ज़िद्द करने के बाद माँ बोली –
‘ठीक है, क्या तुम मेरे साथ जैसे बचपन में सोते थे वैसे सो सकते हो…??
यह बात सुनकर वह व्यक्ति बोला बस इतनी सी बात है तो जरुर मैं अपनी माँ के
पास आज रात सोऊंगा।

Maa ka sachha pyar

जैसे ही रात में वह व्यक्ति अपनी माँ के पास सो गया ,,, माँ उठकर एक मग पानी ले आती है,
और जहाँ खुद सोयी थी उस तरफ से पानी डाल देती है,,, जिससे धीरे धीरे वह पानी उस व्यक्ति
की तरफ भी चला गया। फिर नमी से वह व्यक्ति परेशानी महसूस करने लगा और दूसरी तरफ
खिसक गया तो फिर माँ ने और पानी डाल दिया जिससे जिससे उधर भी नमी महसूस हुई।

तो,, वह तुरंत उठ गया और अपनी माँ के हाथ में मग देखकर गुस्से से बोला –
‘आप क्या कर रही हो माँ, मुझे सोने क्यों नहीं देती हो आप मुझे गीले बिस्तर पर भला
कैसे सुला सकती हो..?’

Maa ka sachha Pyar

तो वह माँ बोली ‘ बेटा जब तुम बचपन में मेरे साथ सोते थे तो ऐसे ही तुम भी बिस्तर गीला कर
देते थे और फिर मैं दूसरी तरफ तुम्हें करके,,,, खुद गीले स्थान पर सो जाती थी।
तुम तो मेरे प्यार और ममता का कर्ज चुकाना चाहते हो,,, जो मैंने तुम्हारे लिए किया था,,,
क्या तुम मेरे लिए थोड़ा सा भी केवल एक रात के लिए गीले में सो नही सकते हो..?
यदि तुम ऐसा कर सकते है तो मैं समझ जाऊंगी कि… तुमने मेरे ममता का कर्ज चुका दिया है।

माँ की बातें सुनकर अब उस व्यक्ति की आँखे खुल गयी थी…
उसे अब समझ आ चुका था कि… जिस माँ ने अपनी ना जाने कितनी रातों को मेरी ख़ुशी के लिए
यूँ ही गुज़र दिया है… भला मैं उस माँ का कर्ज कैसे चूका सकता हूँ ,,,
अब वह अपने किये पर शर्मिंदा था।

Maa ka sachha pyar

“दुनिया में अगर कोई सच्चा प्यार करता है, तो वह सिर्फ माँ है ..

जो अपने बच्चे से निःस्वार्थ प्यार करती है।”

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *