Louis Braille
National and International Days

4th January : Louis Braille Day (लुई ब्रेल दिवस )

4th January : Louis Braille Day (लुई ब्रेल दिवस )

लुई ब्रेल का जन्म 4 जनवरी को दुनिया भर में एक यादगार के तौर पर मनाया जाता है।  इनका जन्म फ्रांस में एक साधारण परिवार में एक कस्बे में हुआ था। इनके पिता वेले ब्रेल औजारों को बनाने का काम करते थे। आर्थिक ज़रूरतों के कारण उनके पिता ने छोटी सी आयु में ही इन्हें अपने साथ काम पर लगा लिया।
एक दिन काम करते हुए औजार इनकी आँख में लग गया और इनकी आँख से खून बहने लगा। थोड़े समय बाद आयु बढ़ने पर इन्हें आँखों से दिखाई देना बंद हो गया।  9-10 साल की आयु तक ये पूरी तरह नेत्रहीन हो गए। पर इन्होंने हिम्मत ना हारी इनके परिवार वालों ने एक पादरी की सहायता से इन्हें नेत्रहीन (Blind) स्कूल में दाखिल करवाया।
इन्होनें शिक्षा स्तर पर अपना महारथ हासिल किया और नेत्रहीन लोगों को आसानी से पढ़ने-लिखने के लिए एक लिपि बनाई।  Louis Brailleइन्होंने इसका अविष्कार 1825 में किया, जब ये 16 साल के थे। इस लिपि ने नेत्रहीन लोगों के शिक्षा स्तर में क्रांति ला दी।
1852 में टी.बी. की बीमारी के कारण उनका निधन हो गया। उनकी बनाई लिपि को उनके निधन के 16 वर्ष बाद 1868 में रॉयल इंस्टिट्यूट फॉर ब्लाइंड यूथ (ROYAL INSTITUTE FOR BLIND YOUTH) ने इस लिपि को मान्यता दी।
भारत सरकार ने भी इनके सम्मान में एक डाक टिकट जारी किया था। इनकी मृत्यु के 100 साल बाद फ्रांस सरकार ने इनके दफनाए गए शरीर को राष्ट्रीय ध्वज में लपेट कर राजकीय सम्मान से दोबारा दफनाया।
0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *