Maa ke liye Gulab
Story

Maa ke Liye Gulab (Emotional Story)

Maa ke Liye Gulab (Emotional Story)

राह चलते एक आदमी ने फूलों की दुकान को देखते हुए अपनी गाड़ी को रोका…
और दुकानदार के पास गया और अपनी माँ के लिए फूल भेजने के लिए
कोरियर भेजने का निवेदन किया,,, इतने में एक छोटी बच्ची वहां आयी और उस आदमी से बोली
“अंकल…मैं अपनी माँ के लिए लाल गुलाब खरीदना चाहती हूं,
लेकिन मेरे पास 2 रूपये कम पड़ रहे है,,, इसलिए अगर मेरी 2 रूपये की मदद कर दे तो मैं इन फूलों को खरीद सकती हूं।”
यह सुनकर वह व्यक्ति मुस्कुराया और बोला ठीक है …तुम खरीद लो 2 रूपये मैं दे देता हूं।
फिर जैसे ही वह व्यक्ति फूलों का आर्डर देने के पश्चात वहां से जाने लगा तो लड़की बोली…
आप आगे जा रहे है,,, तो मुझे भी अपनी गाड़ी से मेरी माँ के पास छोड़ देना तो व्यक्ति ने उस लड़की को
अपनी गाड़ी में बिठा लिया,,,, और कुछ देर चलने के बाद वह लड़की एक कब्रिस्तान के पास रुकी
और बोली मेरी माँ यही रहती है।
इसके बाद वह लड़की कब्रिस्तान में जाने लगी तो….
उत्सुकतावश वह व्यक्ति भी उस लड़की के पीछे पीछे चल दिया तो देखा कि…
एक कब्र पर वह लड़की फूलों को सजा रही है और फिर कब्र से लिपट गयी।

जिसे देखकर उस व्यक्ति की आंखे खुल गयी,,, वह अब समझ चुका था कि
अपनों के खोने का क्या गम होता है..? और वह व्यक्ति तुरंत वहां से वापस
फूलों की दुकान पर गया और अपना कोरियर का आर्डर निरस्त करके,,,,
खुद फूलों का गुलदस्ता लेते हुए अपने हाथो से माँ को देने के लिए निकल पड़ा।

“हमारा जीवन छोटा है,,, आप जिन्हें चाहते है, जो कोई भी आपका हो,,, 
उनके साथ अधिक से अधिक समय व्यतीत करे क्योंकि सबको अपनों के प्यार
की जरूरत पड़ती है,,, और ऐसा करने में हम देरी करते है तो क्या पता कब
हम अपनों से दूर हो जाए….और फिर अपनों का प्यार पाना नामुमकिन हो जाये
इसलिए जीवन के प्रत्येक क्षण में जीवन का आनन्द ले क्योंकि आपके परिवार से
बढ़कर कुछ भी महत्वपूर्ण नहीं है।”

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *